Breaking

शनिवार, 21 अक्तूबर 2017

ये है तो आतंकियों की तस्वीर लेकिन फिर भी आप करना चाहेंगे इसे शेयर ! देखिए क्यों !

ये है तो आतंकियों की तस्वीर लेकिन फिर भी आप करना चाहेंगे इसे शेयर ! देखिए क्यों !
'कश्मीर घाटी में आतंक फ़ैलाने वाला हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी और उसके 10 साथियों की एक तस्वीर बहुत वायरल हुई। इस तस्वीर को देश-विदेश की कई पत्रिकाओं और न्यूज़ पेपर ने खूब छापा। वायरल हुई इस तस्वीर में बुरहान वानी के साथ उसके संगठन के 10 साथी भी दिखाई दे रहे हैं। भारतीय सेना ने इस तस्वीर में दिखाई देने वाले बुरहान वानी के सभी साथियों का वो हश्र किया जो शायद ही किसी ने सोचा होगा।


वायरल हुई इस तस्वीर में बुरहान वानी के साथ उसके संगठन के 10 साथी भी दिखाई दे रहे हैं।

कश्मीर में शांति बनाने के लिए मोदी सरकार ने भारतीय सेना को आतंकियों पर कार्रवाई करने के लिए खुली छूट दे रखी है। जिसका ही परिणाम यह है कि सेना ने बुरहान वानी के सभी साथियों को मौत के घाट उतार दिया। भारतीय सेना ने इस तस्वीर में दिखाई देने वाले एक आतंकी को छोड़कर सभी आतंकियों ऐसा हाल किया कि शायद की किसी ने सोचा होगा। बुरहान वानी ने इस तस्वीर को खिचवाकर अपने जीवन की सबसे बड़ी गलती की। उसने शायद ही सोचा होगा कि तस्वीर में दिखाई देने वाले उसके सभी साथियों का भारतीय सेना ऐसा हाल करेगी।


बुरहान वानी की ब्रिगेड का आखिरी आतंकी वसीम अहमद शाह को सेना ने 14 अक्टूबर 2017 को पुलवामा जिले के एक गाँव में मार दिया। इस फोटो में दिखाई दे रहे 11 आतंकियों में से भारतीय सेना ने 10 को मौत के घाट उतार दिया। 11वां आतंकी तारिक पंडित आत्मसमर्पण करने के बाद सजा काट रहा है। इसलिए बुरहान वानी की यह तस्वीर एक बार फिर से सुर्ख़ियों में आ गई है। भारतीय सेना ने मोदी सरकार की खुली छूट के बाद इन आतंकियों का बहुत ही बुरा हाल किया।


वायरल तस्वीर में बुरहान वानी के साथ जो उसके साथी दिखाई दे रहे हैं, उनमें से 2015 में ही बुरहान वानी के साथ-साथ 7 मारे गए थे। इसके बाद बुरहान वानी के उत्तराधिकारी सब्जार भट और एक अन्य साथियों को सेना ने 2016 में मारा। सेना ने तस्वीर में दिखाई देने वाले एक आतंकी वसीम शाह को शनिवार को मार गिराया गया। कश्मीर में सुरक्षा बलों के लिए वायरल हो तस्वीर में दिख रहे आतंकियों का खात्मा नाक का सवाल बन गया था। जिसके बाद गृहमंत्रालय के आदेश के बाद सेना ने 14 अक्टूबर 2017 को कांटे की तरह चुभ रही उस तस्वीर को इतिहास बना ही दिया।


मोदी सरकार में सेना ने पिछले कई सालों का रिकोर्ड तोड़ते हुए इस साल 6 महीनों में ही 90 से अधिक आतंकियों का खात्मा किया है। साल 2012 में सेना ने 72 आतंकी मार गिराए। इसी के साथ 2013 में 67, साल 2014 में 110, 2015 में 108 आतंकी और साल 2016 में 150 आतंकियों को मौत के घाट उतारा। इस साल सेना ने जुलाई महीने तक 90 से अधिक आतंकियों का सफाया किया है। कश्मीर में सेना और सुरक्षा बलों की तरफ से ऑपरेशन ऑल आउट चल रहा है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...