Breaking

बुधवार, 25 अक्तूबर 2017

श्री हरीश चंद्र मीणा और महिला सशक्तिकरण पर उनके केंद्रित प्रयास

श्री हरीश चंद्र मीणा और महिला सशक्तिकरण पर उनके केंद्रित प्रयास

हम अक्सर खुद को लिंग अनुपात, महिलाओं के उपचार, लड़कियों की उन्नति, लड़कियों की शिक्षा और इसी तरह की शिक्षा के बारे में देश में मौजूदा परिदृश्य पर चर्चा करते हैं, लेकिन वास्तव में हमने कभी बदलाव के बारे में कोई कदम उठाया है? 

जबकि घर में कोई परिवर्तन शुरू किया जाता है तब हम छोटे कदम उठाते हैं, लेकिन व्यापक स्तर पर लाने के लिए समुदाय स्तर पर काम करना उतना ही महत्वपूर्ण है। कई सामाजिक आंकड़े इस कारण के लिए आए हैं और लड़कियों की हालत में सुधार लाने और सामूहिक सशक्तिकरण के लिए नेतृत्व करने का प्रयास कर रहे हैं।

लड़कियों की स्थिति दौसा के लिए चिंता का विषय है। चौथे राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण में महिलाओं की खराब स्वास्थ्य स्थितियां दर्शाती हैं जिनमें 30.8% महिलाएं कुपोषण से जूझ रही हैं। लड़कियों की शिक्षा के स्तर के आंकड़े भी बहुत चिंताजनक है और इसलिए जिले को शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण की गुणवत्ता में सुधार पर काफी जोर देने की आवश्यकता है।

हालांकि दौसा क्षेत्र में अब तक कई योजनाएं शुरू की गई हैं, जिनमे सड़कों के विकास, जल आपूर्ति आदि पर सबसे अधिक लक्ष्य किया गया है। जबकि शिक्षा और रोजगार जैसे दीर्घकालिक योजनाओ पर अधिक धयान देने की आवयश्कता है।

दौसा जिले के सांसद श्री हरीश चंद्र मीणा ने दीर्घकालिक सुधारों की आवश्यकता को समझा और लड़कियों के सशक्तिकरण और शिक्षा पर केंद्रित एक स्वागत योग्य स्कीम का शुभारंभ किया। इस योजना का उद्देश्य दौसा में लगभग 1000 लड़कियां, परिवारों और परिस्थितियों को प्रभावित करना है। शिक्षा और पोषण के महत्वपूर्ण क्षेत्र पर धयान केन्द्रित किया हैं।

श्री हरीश चंद्र मीणा और महिला सशक्तिकरण पर उनके केंद्रित प्रयास

इस योजना का उद्देश्य परिवर्तन की दिशा में एक प्रारंभिक कदम है जिसका उद्देश्य परिवारों को उनकी लड़कियों के कल्याण में भूमिका निभाने के बारे में संवेदनशीलता प्रदान करना है।

योजना के प्रक्षेपण समारोह में श्री हरीश चंद्र मीणा द्वारा दिया गया मुख्य वक्ता  "हमारा मुख्य उद्देश्य आदर्श मॉडल स्कूल बनाकर दौसा के स्कूलों में लड़कियों को विश्व स्तर की शिक्षा प्रदान करना है।"

लॉन्च कार्यक्रम एक बहुत प्रेरणादायक रहा जिसमें लगभग 100 चुने हुए निमंत्रकों ने भाग लिया, जिनसे लड़कियों को शिक्षा, स्व सशक्तिकरण और भविष्य की पूर्ति के अधिकार के बारे में आश्वासन लिया गया, साथ ही एनीमिया और विकृतियों से लड़ने के लिए संतुलित आहार, पोषण और आहार सलाह पर जानकारी दी गई है।

दौसा के जिला कलेक्टर भी योजना के साथ गहराई से जुड़ा हुऐ है और जितना संभव हो सके उतना अधिक समर्थन का आश्वाशन दिया है।

लड़की के कल्याण पर लक्षित योजना में उल्लिखित महत्वपूर्ण पहलुओं को नीचे दिया गया है:

• कार्यक्रम के पहले चरण में, रु 15 लाख रुपये प्रति स्कूल दिए जाएंगे, इसके बाद फंड के उपयोग के आकलन और शिक्षक के आगे के फंडों के प्रदर्शन से स्कूल के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। प्रति स्कूल में धन एक करोड़ तक हो सकता है। 
• इस योजना के तहत वितरण के पहले महीने के भीतर स्कूलों और गतिविधियों में दृश्यमान सुधार का अनुमान लगाया गया है।
• लड़कियों की स्वच्छता और स्वास्थ्य परिस्थितियों को घोषित किया जाएगा और स्वास्थ्य कार्ड में दर्ज किया जाएगा जो पहले महीने में सभी लड़कियों को जारी किए जाएंगे।
• घरेलू स्तर पर अधिकतम भागीदारी हासिल करने के लिए माता-पिता के साथ निकट सहयोग की योजना बनाई गई है।
• विफलता की दर को कम करने और प्रमुख विश्वविद्यालयों में छात्रों के प्रवेश को सुनिश्चित करने के लिए शिक्षा की गुणवत्ता ध्यान के मुख्य क्षेत्रों में से एक होगी।

श्री हरीश चंद्र मीणा और महिला सशक्तिकरण पर उनके केंद्रित प्रयास

यह योजना अच्छी तरह से तैयार की गई योजना है, अगर ठीक से पालन किया जाए तो लड़कियों के लिए स्वास्थ्य, पोषण और शिक्षा की गुणवत्ता को उन्नत करने में काफी मदद मिलेगी। श्री मीना के विचार और दिशा में प्रयास प्रशंसनीय हैं और जिस तरह से योजना शुरू हो गई है, वह एक महान क्षमता दिखाती है।

यह उच्च समय है जैसे उसके जैसे लोग पूरे देश में महिलाओं की शिक्षा और स्वास्थ्य के स्तर में सुधार के लिए आगे आते हैं, क्योंकि वे लंबे समय से समाज के उपेक्षित वर्ग हैं, जिन्हें रणनीतिक रूप से ऊपर उठाने की जरूरत है।

अगर सभी जिलों ने इस तरह के प्रयास किए, तो देश की विकास स्थिति महान ऊंचाइयों तक पहुंच जाएगी। सभी की जरूरत है एक दृष्टि और परिवर्तन के बारे में लाने की इच्छा। श्री हरीश मीणा ने इस तरह से कुछ योजना बनाकर अपनी नौकरी और जिले के प्रति महान प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया है।

उसे सभी जरूरतों को माता-पिता, शिक्षक, सरकारी निकायों और अन्य अधिकारियों से कुछ समर्थन मिलते हैं ताकि वे सही दिशा में योजनाबद्ध प्रयासों को गति प्रदान कर सकें और सफलतापूर्वक सुनिश्चित कर सकें।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...