Breaking

मंगलवार, 20 मार्च 2018

महिला ने दूसरी बेटी को दिया जन्‍म तो नाराज परिवार ने बच्चों के साथ घर से निकाला

महिला ने दूसरी बेटी को दिया जन्‍म तो नाराज परिवार ने बच्चों के साथ घर से निकाला

'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ कई नेता और अभिनेता कोशिश कर रहे हैं, लेकिन लाख कोशिशों के बाद भी बेटियों के प्रति लोगों की सोच आज भी बदल नहीं पा रही है।

उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस मिशन की सारी कोशिशें धरातल पर बौनी साबित हो रही हैं। मामला बांदा का है, जहां एक विवाहिता को ससुरालियों के ज़ुल्म का इसलिए शिकार होना पड़ा, क्योंकि उसने दूसरी बेटी को जन्म दिया था।

क्या है पूरा मामला
मामला चिल्ला थाना क्षेत्र के अतराहट का है। यहां पीड़िता निर्मला ने अपने ससुराल वालों को खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। पीड़िता का आरोप है कि उसके ससुराल वालों ने उसे घर से इसलिए निकाल दिया, क्योंकि उसने दूसरी बेटी को जन्म दिया और मायके वालों ने उसकी दोनों बेटियों की परवरिश के लिए लाखों रुपए नहीं दिए।

बच्ची की हत्या का बनाया था दबाव
पीड़ित महिला का आरोप है कि दूसरी बेटी के जन्म के बाद जब वह अपने ससुराल पहुंची तो उसके पति और ससुराल वालों ने उस पर मासूम की हत्या का दबाव बनाया, लेकिन जब उसने ये करने से मना कर दिया, तो उन लोगों ने उसके साथ मारपीट कर दोनों बच्चियों के साथ उसे घर से निकाल दिया।

बच्चियों की परवरिश के लिए मांगे दो लाख 
पीड़िता ने बताया कि उसके ससुराल वालों ने बच्चियों की परवरिश के लिए 2 लाख रुपए मायके से लाने के लिए कहा था। जब उसके पिता ने और पैसे देने को मना किया, तो उसके ससुराल वालों ने उसे और प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। निर्मला ने बताया कि उसके पिता ने उसकी बड़ी बच्ची का बीमा कराया हुआ है और उसके खर्चों के लिए भी वो पैसे देते रहते हैं। 

पीड़िता ने दर्ज कराई एफआईआर
इस मामले में पीड़िता ने चिल्ला पुलिस से प्राथमिकी दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की मांग की है। महिला का आरोप है कि शिकायत के बाद भी पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। वहीं पुलिस का कहना है कि उसने महिला की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है और कार्रवाई कर रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...