Breaking

शुक्रवार, 6 अप्रैल 2018

VIDEO: जब राहुल गांधी के गले में दूर से उड़ते हुए आ गिरी फूलों की माला, SPG रह गई हैरान

VIDEO: जब राहुल गांधी के गले में दूर से उड़ते हुए आ गिरी फूलों की माला, SPG रह गई हैरान

तुमकुरू में भीड़भाड़ वाली सड़क पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आगामी कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार (4 अप्रैल) को एक रोड-शो कर रहे थे। इस रोड-शो के दौरान जब वे सड़क के दोनों ओर खड़े अपने समर्थकों का अभिवादन कर रहे थे कि अचानक कुछ ऐसा हुआ, जिससे न केवल राहुल बल्कि उनकी सुरक्षा में तैनात एसपीजी जवान भी हैरान रह गए। 

दरअसल, राहुल जब रोड-शो के दौरान अपने समर्थकों की तरफ हाथ हिला रहे थे, उसी दौरान एक समर्थक ने राहुल की तरफ फूलों की माला जोर से फेंकी, जोकि सीधे जाकर राहुल के गले में जा गिरी। जैसे ही यह माला राहुल के गले में गिरी, उन्‍होंने तुरंत इसे अपने गले से निकाल लिया और समर्थकों का अभिवादन करने लगे। इस घटनाक्रम से न केवल राहुल, बल्कि एसपीजी जवान और वहां मौजूद हजारों लोग अवाक रह गए। 

राहुल के सुरक्षाकर्मियों ने तुरंत ही उस माला को सिक्योरिटी के लिहाज से हटा दिया, लेकिन इस घटना का वीडियो, जिसमें साफतौर पर पूरे वाकये को देखा जा सकता है सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।


राहुल ने लिंगायत संत से मुलाकात कर आशीर्वाद मांगा
इसी दिन 4 अप्रैल को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक के तुमकुरू में स्थित लिंगायत समुदाय के सिद्धगंगा मठ की यात्रा की और समुदाय के श्रद्धेय संत श्री शिवकुमार स्वामी से आशीर्वाद मांगा। कर्नाटक में अपनी दो दिवसीय यात्रा के पांचवें चरण में राहुल ने मठ की यात्रा की और मुख्यमंत्री सिद्धरमैया, लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और केपीसीसी अध्यक्ष जी परमेश्वर के साथ 111 वर्षीय संत से मुलाकात की।

राहुल की यात्रा सिद्धरमैया सरकार के लिंगायत और वीरशैव समुदाय को धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा देने की केंद्र को सिफारिश करने के बाद हुई है। ये दोनों समुदाय राजनैतिक रूप से ताकतवर हैं। राज्य सरकार के कदम को लिंगायत मतों को बांटने के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। राज्य में लिंगायतों की आबादी तकरीबन 17 फीसदी है और उनपर भाजपा का अच्छा प्रभाव है।

आरएसएस के लोग हर मंत्रालय में बैठे हुए हैं और आदेश दे रहे हैं : राहुल गांधी
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 4 अप्रैल को नरेन्द्र मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि वह विभिन्न संस्थाओं में आरएसएस के लोगों को बिठा कर और उनसे आदेश दिला कर इन संस्थाओं का निरादर कर रही है तथा उन्हें ध्वस्त कर रही है. राहुल ने कर्नाटक के दावणगेरे में शहर के व्यापारियों से बात करते हुए कहा कि यदि कांग्रेस सत्ता में आती है, तो वह इन संस्थाओं को आरएसएस के नियंत्रण से मुक्त कराएगी।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता कि क्या आप सबों को यह पता है कि प्रत्येक मंत्री के कार्यालय में आरएसएस का एक आदमी बैठा हुआ है और आदेश दे रहा है। इसलिए आप क्या उम्मीद कर सकते हैं...संस्थाओं के निरादर के सिवा, इस ढांचे के चलते देश की बैंकिंग प्रणाली ध्वस्त हो गई है।’’ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘‘नीरव मोदी और मेहुल चोकसी कौन हैं?’’ उन्होंने कहा कि जब आपने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) जैसी संस्थाओं का सम्मान नहीं किया, तब इन लोगों का उदय हुआ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...