Breaking

शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2018

गुजरात में बना अनोखा रिकॉर्ड, जन्म के तीन घंटे के भीतर बच्चे को मिल गया पासपोर्ट

गुजरात में बना अनोखा रिकॉर्ड, जन्म के तीन घंटे के भीतर बच्चे को मिल गया पासपोर्ट

गुजरात के सूरत जिले के पुणापाटिया इलाके में रहने वाले मनीष कापड़िया और उनकी पत्नी नीता कापड़िया के घर बुधवार को नवरात्रि के पहले दिन दोपहर 11 बजकर 42 मिनट पर बेटे का जन्म हुआ था। जन्म के कुछ वक्त के बाद ही उसके पिता ने बेटे ऋग्वेद का पासपोर्ट लेने के लिए ऑनलाइन अर्जी कर दी थी। जिसके बाद बच्चे के जन्म के केवल तीन घंटे में ही पासपोर्ट पाकर उन्होंने सबसे कम वक्त में पासपोर्ट जारी होने का रिकॉर्ड बनाया।

जन्म के तीन घंटे के भीतर जारी हो गया पासपोर्ट
जानकारी के मुताबिक सूरत के ऊनापाणी रोड पर स्थित अस्पताल में ऋग्वेद के जन्म के बाद 12.15 बजे तक सूरत महानगर पालिका से उसका (ऋग्वेद का) बर्थ सर्टिफिकेट निकलवा लिया गया था। जिसमें 12.20 बजे दोपहर ऋग्वेद के पासपोर्ट के लिए फॉर्म भरने के बाद 2.30 बजे दोपहर सूरत पासपोर्ट ऑफिसर अंजनी कुमार पांडे के हाथों से ऋग्वेद के पिता मनीष कापड़िया को उसका (ऋग्वेद का) पासपोर्ट दे दिया गया था।

एक दिन पहले ही ऋग्वेद का नाम तय कर लिया गया था
मनीष और नीता कापड़िया के बेटे अथर्व के बाद दूसरी संतान के तौर पर ऋग्वेद का जन्म हुआ था। तीन घंटे में पासपोर्ट के बाद अब वे लोग लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड और गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए प्रयास करेंगे। एक सॉफ्टवेयर कंपनी के साथ जुडे मनीष और उनके परिवार को एक दिन पहले ही नवजात के पासपोर्ट को लेकर विचार आया था। जिसमें बेटी होने पर उसका नाम रिवा और बेटे के होने पर ऋग्वेद नाम रखने का निर्णय किया गया था। उसी के आधार पर तीन घंटे में पासपोर्ट तैयार कर दिया गया था।

यूनीक थी अर्जी इसलिए तत्काल बना पासपोर्ट
गौरतलब है कि पासपोर्ट के लिए सबूत जरूरी हैं। ऋग्वेद के जन्म के सर्टिफिकेट समेत सारे सबूत पेश किए गए थे। 1 साल से छोटी उम्र का बच्चा हो तो माता-पिता दोनो में से किसी एक की मौजूदगी जरूरी होती है। जानकारी के मुताबिक इसी वजह से ऋग्वेद के पिता ने पासपोर्ट के लिए अर्जी की थी। पासपोर्ट अधिकारी ने बताया कि ऐसी यूनीक अर्जी के आधार पर उन्होंने तत्काल पासपोर्ट बनवाया।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...