Breaking

मंगलवार, 9 अक्तूबर 2018

UP सरकार ने रद्द की उर्दू शिक्षकों के 4000 पदों पर भर्ती, कहा- 'मानक से कहीं ज्यादा हैं टीचर्स'

UP सरकार ने रद्द की उर्दू शिक्षकों के 4000 पदों पर भर्ती, कहा- 'मानक से कहीं ज्यादा हैं टीचर्स'

उत्तर प्रदेश सरकार ने पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान बेसिक शिक्षा विभाग में आई 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती रद्द कर दी है। सरकार का कहना है कि प्राथमिक स्कूलों में मानक से कहीं ज्यादा संख्या में उर्दू शिक्षक तैनात हैं। इसलिए अब और उर्दू शिक्षकों की जरूरत नहीं है।

बेसिक शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रभात कुमार ने बताया कि प्रदेश के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में उर्दू विषय के करीब 87 हजार विद्यार्थी हैं, जबकि उर्दू विषय के 16 हजार से अधिक शिक्षक हैं।

अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा डॉ. प्रभात कुमार की तरफ से भर्ती को रद्द करने के बारे में शासनादेश जारी कर दिया गया है। अखिलेश सरकार ने 15 दिसंबर 2016 को उर्दू शिक्षकों के 4000 पदों पर भर्ती शुरू की थी। इसके लिए प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापकों के 16,460 रिक्त पदों में से 4000 पदों को सहायक अध्यापक उर्दू भाषा के पदों में बदला गया था।

UP सरकार ने रद्द की उर्दू शिक्षकों के 4000 पदों पर भर्ती, कहा- 'मानक से कहीं ज्यादा हैं टीचर्स'

इससे पहले अखिलेश सरकार ने अपने शासनकाल में तीन बार उर्दू शिक्षकों की भर्ती हुई थी, जिसमें परिषदीय विद्यालयों में लगभग 7000 उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति हुई थी। पहली बार 2013 में उर्दू शिक्षकों की भर्ती के लिए 4280 पदों की घोषणा की गई। फिर इनमें से शेष पदों की भर्ती के लिए 2014 में दूसरी बार भर्ती प्रक्रिया शुरू की गई थी। वहीं, तीसरी बार उर्दू शिक्षकों के 3500 पदों के लिए 2016 में शासनादेश जारी हुआ था। 4000 उर्दू शिक्षको कि भर्ती का ये आदेश अखिलेश सरकार ने सरकार जाने के ठीक पहले दिसंबर के महीने में जारी किया था।

विधानसभा चुनावों के पहले निकली यह भर्ती एक समुदाय विशेष के वोटरों को अपनी तरफ करने की अखिलेश यादव की यह राजनैतिक चाल थी। जबकि आज के समय में उर्दू भाषा कितनी प्रासंगिक रह गयी हैं यह सबको पता हैं। छात्रों को विज्ञान, गणित, अंग्रेजी जैसे विषयो को पढ़ाने के लिए जोर देना चाहिये, यह रोजगारपरक भी हैं और देश के विकास को भी आगे बढाने वाला हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...