Breaking

रविवार, 4 अक्तूबर 2020

स्वरा भास्कर और दिग्विजय सिंह ने सार्वजनिक कर दी हाथरस पीड़िता की पहचान, NCW भेजेगा नोटिस

स्वरा भास्कर, NCW, दिग्विजय सिंह

राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा है कि न सिर्फ भाजपा आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय, बल्कि अभिनेत्री स्वरा भास्कर और कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह जैसे कइयों ने भी जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन के दौरान हाथरस की पीड़िता की पहचान जाहिर कर दी। उन्होंने कहा कि इस मामले में बलात्कार सम्बन्धी बात अभी रिपोर्ट्स में स्पष्ट नहीं हैं और न ही कोर्ट ने मामले में स्वतः संज्ञान लिया है।

राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि जब हाथरस मामले में बलात्कार पर चीजें स्पष्ट हो जाएँगी, तब NCW इस मामले में पीड़िता की पहचान जाहिर करने वाले सभी लोगों को नोटिस देगा। उन्होंने कहा कि जिन भी लोगों ने सोशल मीडिया में या फिर विरोध प्रदर्शनों के दौरान उत्तर प्रदेश के हाथरस की पीड़िता की तस्वीरों का इस्तेमाल किया है, उन सभी के डिटेल्स उनके पास हैं।

विरोध प्रदर्शन की वायरल तस्वीरों में स्वरा भास्कर भाषण देती हुई दिख रही हैं और उनके पीछे समर्थकगण हाथरस की पीड़िता का पोस्टर लहरा रहे हैं। इन तस्वीरों पर प्रतिक्रिया देते हुए स्वरा भास्कर ने लिखा है, “हमारी लड़ाई है, हम सबको साथ लड़ना होगा। आज चुप रहना मतलब इस दरिंदगी में शामिल होना।” उन्होंने जिस तस्वीर को कोट कर के ट्विटर पर ये बात लिखी, उसमें पीड़िता का चेहरा स्पष्ट दिख रहा है।

साथ ही स्वरा भास्कर ने जंतर-मंतर पर हुए विरोध प्रदर्शन का वीडियो भी शेयर किया, जिसमें कई लोग हाथरस की पीड़िता की तस्वीरों वाले पोस्टर-बैनर लहरा रहे हैं। अभिनेत्री ने दावा किया कि ये सभी चिंतित नागरिक हैं, जो न्याय के लिए खड़े हैं। कॉन्ग्रेस समर्थक साकेत गोखले ने कंगना रनौत मामले में टिप्पणी पर NCW द्वारा संज्ञान लेने की खबर की चर्चा करते हुए रेखा शर्मा को घेरा, जिसके बाद उन्होंने जवाब दिया कि इस मामले में भी संज्ञान लिया गया है – वो ये सब कह के समाज को न बाँटें।

बता दें कि कई लिबरल वामपंथी इस बात से नाराज़ हैं कि अभिनेत्री कंगना रनौत के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ महिला आयोग ने संज्ञान क्यों लिया। साथ ही हाथरस मामले में महिला आयोग द्वारा सक्रियता दिखाए जाने के बावजूद ये अध्यक्ष रेखा शर्मा को घेर रहे हैं, जबकि खुद पीड़िता की पहचान जाहिर कर रहे। ऐसे ही कठुआ की मासूम पीड़िता की पहचान भी जाहिर कर दी गई थी।

दिग्विजय सिंह ने फैलाया फेक न्यूज़

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने तो हाथरस के पीड़िता की जगह चंडीगढ़ की एक अन्य युवती की तस्वीर लगा दी, जिसकी दो वर्ष पहले ही बीमारी से मौत हो गई थी। इस तस्वीर के वायरल होने से उस युवती के परिजन भी दुःखी हैं। ये तस्वीर मदद की अपील के लिए तब डाली गई थी, जब पीड़िता अस्पताल में थी। दिग्विजय सिंह ने अस्पताल में हाथरस की पीड़िता की तस्वीर के साथ इसे भी शेयर कर दिया।


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...