Breaking

शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2020

‘TMC एक्टिविस्ट’ सुबोध राय के घर पर की गई मनीष शुक्ला मर्डर की प्लानिंग, शॉर्पशूटरों को भी दी पनाह

मनीष शुक्ला-सुबोध यादव

पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के टीटागढ़ में भाजपा नेता मनीष शुक्ला की गोली मारकर हत्या किए जाने के मामले में अपराध जाँच शाखा (CID) ने तीसरे आरोपित को गिरफ्तार किया है। उसकी पहचान सुबोध यादव उर्फ ​​सुबोध राय के रूप में की गई है। उस पर हमले में शामिल छह संदिग्धों को आश्रय देने का आरोप है।

रिपोर्टों के मुताबिक सुबोध TMC का कार्यकर्ता है। वह बैरकपुर म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के पूर्व चेयरमैन उत्तम दास का करीबी बताया जाता है। मनीष शुक्ला की हत्या की जाँच शुरू होने के तुरंत बाद पुलिस ने मोहम्मद खुर्रम खान और गुलाब शेख को गिरफ्तार किया था। जाँचकर्ताओं ने उन्हें 14 दिनों के लिए हिरासत में ले लिया है। तृणमूल नेता नजीर खान को बुधवार (अक्टूबर 07, 2020) को गिरफ्तार किया गया।

मनीष शुक्ला की रविवार (अक्टूबर 04, 2020) शाम करीब 8:30 बजे मोटरसाइकिल सवार दो बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। हमलावरों ने शुक्ला को बेहद करीब से गोली मारी थी। मारे गए भाजपा नेता के पिता चंद्रमणि शुक्ला द्वारा दर्ज कराई गई एफआईआर में टीएमसी नेता और टीटागढ़ नगरपालिका के पूर्व महापौर प्रशांत चौधरी, बैरकपुर नगरपालिका के निवर्तमान मेयर उत्तम दास, और मोहम्मद खुर्रम खान सहित कुल आठ लोगों को आरोपित के तौर पर नामजद किया गया है।

सीआईडी की एक टीम ने उस स्थान का दौरा किया जहाँ मनीष शुक्ला को गोली मारी गई थी। वे गिरफ्तार कारोबारी खुर्रम की भी जाँच कर रहे हैं। इस बीच, जाँच में कुछ सनसनीखेज जानकारी सामने आई हैं।

सुबोध के घर पर बनी थी हत्या की रणनीति

अधिकारियों को पता चला है कि बदमाशों ने तीन महीने पहले ही हत्या की साजिश रची थी। सीआईडी ​​अधिकारियों ने बताया कि भाजपा पार्षद को मारने की योजना बैरकपुर में सुबोध के आवास पर बनाई गई थी।

घटना से कुछ दिन पहले, बैरकपुर नगरपालिका के में निर्माणाधीन एक मकान की दूसरी मंजिल पर एक फ्लैट में चार युवक रहने लगे। वहाँ से वो इलाके में रेकी करने लगे और नजर रख रहे थे। पुलिस ने फ्लैट को भी सील कर दिया है। वहीं, पुलिस ने कई स्थानीय लोगों से पूछताछ की।

एक अधिकारी के अनुसार, “मनीष शुक्ला को खत्म करने की पूरी योजना सुबोध के आवास पर बनाई गई थी। उसने शॉर्पशूटरों को पनाह दी जो कम से कम चार की संख्या में थे और हत्या से कुछ दिन पहले बैरकपुर आए थे।”

बताया जा रहा है कि मनीष शुक्ला की हत्या के लिए रची गई साजिश की पूरी जानकारी सुबोध को थी। वही उक्त निर्माणाधीन मकान के दूसरी मंजिल पर फ्लैट में ठहराए गए 6 शॉर्पशूटर के खाने-पीने का इंतजाम देखता था।

स्थानीय लोग उसे फ्लैट में आते-जाते देखते थे। सीआईडी ने बृहस्पतिवार को सुबोध को बैरकपुर कोर्ट में पेश किया जहाँ कोर्ट ने उसे 12 दिनों की सीआईडी ​हिरासत में भेज दिया है।

CID ने बरामद किए कार्बाइन, बाइक और ‘साजिश का सामान’

सीआईडी ने बुधवार देर रात को ही बैरकपुर पालिका के 4 नंबर वार्ड से अभियुक्त सुबोध यादव को गिरफ्तार कर लिया। उससे पूछताछ के बाद बृहस्पतिवार को सीआईडी की एक टीम ने सोदपुर रेलवे ब्रिज के नीचे से मनीष की हत्या के लिए कथित तौर पर इस्तेमाल किए गए कार्बाइन को बरामद कर लिया है। वहीं, टीम ने 3 मोटरसाइकिलें भी जब्त की हैं जिस पर अभियुक्त सोदपुर की ओर भागे थे।

TMC शक के दायरे में

भाजपा ने पहले भी तृणमूल कॉन्ग्रेस पर इस हत्या का आरोप लगाया था। मृतक के पिता ने पुलिस के पास अन्य टीएमसी नेताओं जैसे प्रशांत चौधरी और उत्तम दास की हत्या में शामिल होने के लिए शिकायत दर्ज की थी।

इस बीच, बीजेपी नेता अर्जुन सिंह ने दावा किया था कि मुख्य आरोपित मोहम्मद खुर्रम, जो पहले सीआईडी ​​द्वारा गिरफ्तार किया गया था, के टीएमसी मेंबर्स फिरदाह हकीम, निर्मल घोष, मदन मित्रा, दिनेश त्रिवेदी, और बतिआ बासु के साथ संबंध हैं। भाजपा नेता तेजस्वी सूर्या ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की और मनीष शुक्ला को न्याय दिलाने का आश्वासन दिया।



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Advertisement :

loading...